Friday, December 2, 2022

दिल्ली-एनसीआर को मिला एक और रेलवे लाइन का तोहफा, बनाए जाएंगे 16प्लेटफॉर्म,मुंबई कोलकाता जाना होगा आसान

Must Read

Delhi: देश में औद्योगिक क्षेत्र में विकास करने का काम किया जा रहा है। इसके लिए सरकार द्वारा भी अलग अलग योजनाओं पर काम किया जा रहा है। अलग अलग शहरों में लॉजिस्टिक्स हब भी बनाए जा रहे हैं जिसकी चर्चा हो रही है। वहीं अब डीएमआईसी इंटीग्रेटेड टाउनशिप ग्रेटर नोएडा लिमिटेड IITGNL द्वारा लॉजिस्टिक हब बनाने का काम किया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि लॉजिस्टिक हब परियोजना को न्यू दादरी से जोड़ने के लिए ही 3.5 किमी लंबी रेलवे लाइन भी बिछाई जाने वाली है। लेकिन इससे लॉजिस्टिक हब को काफी लाभ मिलने वाला है और कई बड़े शहरों में भी दिल्ली एनसीआर से पहुँचना काफी आसान हो जाएगा।

करोड़ों के खर्च से बिछाई जाएगी रेलवे लाइन

लॉजिस्टिक हब परियोजना को न्यू दादरी से जोड़ने के लिए ही इस 3.5 किमी लंबी रेल लाइन को बिछाया जाने वाला है जिसका खर्च 814 करोड़ बताया जा रहा है। आईआईटीजीएनएल द्वारा ही इस रेल लाइन को बिछाने का खर्च वहन किया जाने वाला है। जबकि इसका निर्माण कार्य डीएफ़सीसी करवाने वाला है। आईआईटीजीएनएल की बैठक में भी इस पर सहमति बन चुकी है। अब जल्द ही इस पर काम शुरू किया जाएगा। 478 हेक्टेयर जमीन पर ही इस मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक हब को बनाया जाने वाला है। जिसमें से 145 हेक्टेयर पर मल्टीमॉडल ट्रांसपोर्ट हब भी बनाया जाएगा।

लॉजिस्टिक हब में होंगे 16 रेलवे प्लेटफॉर्म

बताया जा रहा है कि लॉजिस्टिक हब में ही 16 रेलवे प्लेटफॉर्म भी बनाए जाने वाले हैं। फिलहाल तो मुंबई, गुजरात और कोलकाता जैसे शहरों में जाने में करीब 3-4 दिन का समय लग जाता है लेकिन इस परियोजना से सिर्फ 24 घंटे में ही इन शहरों में पहुंचा जा सकता है।

- Advertisement -
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 1 जनवरी से एनसीआर में सिर्फ CNG और ई ऑटो का होगा पंजीकरण

Delhi: देश में प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों को खत्म करने का काम किया जा रहा है। वाहिन्म इलेक्ट्रोनिक वाहनों...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img
Deserving India - Haryana