Friday, December 2, 2022

दिवाली पर फीकी पड़ी दीये की रौशनी, इलेक्ट्रोनिक झालरों के कारण ठप्प हुआ कुम्हारों का काम

Must Read

चंडीगढ़ : दिवाली का त्यौहार दीयों का त्यौहार माना जाता है। इस त्यौहार को देश में खूब धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली के दिन सभी अपने अपने घरों को दीयों से सजाते हैं और पूरे घर को जगमग करते हैं। लेकिन अब ये दौर जाता हुआ नज़र आ रहा है। अब दीयों की जगह इलेक्ट्रोनिक झालरों ने ले ली है।

बिजली की झालरों से लोग सजा रहे घर

अब लोग दीयों को नहीं बल्कि बिजली से चलने वाली झालरों को लेना पसंद कर रहे हैं और इन झालरों से ही अपने घर को सजा रहे हैं। ऐसे में कुम्हारों को काफी नुकसान हो रहा है और उनका काम भी ठप्प हो गया है। आइए जानते हैं इस खबर से जुड़ी खास बातें

दीयों का पर्व हुआ करता था दिवाली

दिवाली आती थी तो लोग दीयों को खरीदना भी शुरू कर देते थे। हिंदू धर्म के अनुसार भी दिवाली के मौके पर भगवान श्रीराम वनवास से लौटे थे और अयोध्यावासियों ने भी उनका दीप जलाकर स्वागत किया था। तभी से दिवाली के मौके पर दीप जलाने की परंपरा आ रही है। कुम्हारों ने भी बताया है कि एक समय पर लोग भी मिट्टी के दीये और बर्तन काफी शौक से खरीदते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब समय बदलता जा रहा है। कुम्हारों के अनुसार इलेक्ट्रोनिक झालरों के आगे दीयों कि रौशनी फीकी पड़ती नज़र आ रही है।

कुम्हारों को ही रहा है नुकसान

कुम्हारों का कहना है कि गर्मी के सीजन और दिवाली के मौके पर ही सबसे ज्यादा मिट्टी के बर्तन और दीयों की बिक्री होती है लेकिन अब सिर्फ लोग पूजा के लिए थोड़े से दीयों को ही ले जाते हैं। ऐसे में कुम्हारों को भी काफी नुकसान हो रहा है। वहीं कुम्हारों को भी दीयों का उचित दाम नहीं मिल पा रही है और कई कुम्हार तो अपने इस पुश्तैनी काम को बंद करने के लिए भी मजबूर हो गए हैं।

- Advertisement -
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 1 जनवरी से एनसीआर में सिर्फ CNG और ई ऑटो का होगा पंजीकरण

Delhi: देश में प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों को खत्म करने का काम किया जा रहा है। वाहिन्म इलेक्ट्रोनिक वाहनों...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img
Deserving India - Haryana